भक्ति धाम | मनगढ़ मंदिर कुंडा प्रतापगढ़ पूरी जानकारी

भक्ति धाम | मनगढ़ मंदिर कुंडा प्रतापगढ़ | भक्ति धाम मंदिर खुलने का समय | दर्शन |

राधे-राधे दोस्तों लाखों करोड़ों श्रद्धालुओं के आस्था का केंद्र भक्ति धाम उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के कुंडा तहसील के अंतर्गत मनगढ़ नामक गांव में स्थित है।

श्री कृष्ण और राधा के प्रेम को समर्पित मनगढ़ मंदिर कुंडा प्रतापगढ़ में उनके जीवन के गतिविधियों को बड़े ही सुंदर झांकियों के द्वारा दर्शाया गया है ठीक उसी तरह जिस प्रकार से वृंदावन के प्रेम मंदिर और बरसाना के कीर्ति मंदिर में प्रस्तुत किया गया है।

इस मंदिर की नींव 1996 में जगद्गुरु कृपालु जी महाराज के द्वारा रखी गई थी और यह 2005 में भक्तों के लिए बनकर पूरी तरह से चालू हुआ ।

भक्ति धाम दुनिया का इकलौता ऐसा मंदिर है जो लोहे के पिलर पर नहीं बल्कि ग्रेनाइट के पत्थरों पर खड़ा है।

प्रतापगढ़ के मनगढ़ जैसे छोटे से गांव में भक्ति धाम मनगढ़ जैसा भव्य मंदिर बनाने का मुख्य उद्देश था कि यह स्थान कृपालु महाराज की जन्मभूमि है यहीं पर उनका जन्म साल 1922 में शरद पूर्णिमा के दिन मध्यरात्रि को हुआ था।

चांदनी रात में लाइट का रिफ्लेक्शन जब झांकियों का पड़ता है तो ऐसा प्रतीत होता है मानो कुदरत की कायनात बस यही समाई है इसे देखने के लिए दूर-दूर से आए हुए पर्यटक संध्या होने का इंतजार करते हैं।

मन मोह लेती है मंदिर की झांकियां

  • जमीन से 108 फीट ऊंचे शिखर वाले इस मंदिर के निचले तल पर श्री कृष्ण और राधा रानी संग उनके अष्ट सखियों के जीवन का झांकियों के माध्यम से बड़े ही सुंदरता के साथ चित्रित किया गया है।
  • वही पहले मंजिल को दो चरणों में बांटा गया है जिसमें से पहले चरण में त्रेता अवतार राम सीता और श्री कृष्ण राधा के साथ बलराम के जीवन प्रसंगों को चित्रित किया गया है।
  • जबकि दूसरे भाग में महाराज कृपालु के जीवन से जुड़े अहम पहलुओं को प्रदर्शित किया गया है।

सीता मां के जन्मस्थली भूमि सीतामढ़ी यात्रा की जानकारी के लिए इसे पढ़ें

भक्ति धाम मंदिर दर्शन का सबसे अच्छा समय

भक्ति धाम यात्रा का सबसे अच्छा समय श्री कृष्ण जन्माष्टमी और राधा अष्टमी का होता है क्योंकि उस समय यहां हर्षोल्लास के साथ जन्म उत्सव मनाया जाता है जिसमें संपूर्ण भारत के कोने-कोने से राधा कृष्णा के भक्ति में लीन भक्त मनवांछित इच्छा फल लेकर दर्शन के लिए आते हैं और यही समय यहां घूमने का बेस्ट टाइम माना जाता है।

उसी समय यहां पर राधा कृष्ण की झांकियों का भव्य समारोह आयोजन किया जाता है जिसमें लाखों करोड़ों श्रद्धालु भाग लेकर इसे सफल बनाते हैं।

वैसे तो प्रतिदिन हजारों लोगों का आवागमन लगा रहता है लेकिन हिंदू त्योहारों के समय जैसे दिवाली, दशहरा ,जन्माष्टमी, राधा अष्टमी, होली, मकर संक्रांति इत्यादि के पावन शुभ अवसर पर यहां भक्तों का तांता लगा रहता है।

भक्ति धाम मंदिर खुलने का समय

यह मंदिर प्रतिदिन सुबह 8:30 बजे से दोपहर 11:00 बजे तक खुला रहता है और 2 घंटे के लिए बंद होता है उसके बाद 1:00 बजे से रात्रि 8:30 बजे तक निरंतर खुला रहता है।

भक्ति धाम मनगढ़ कैसे पहुंचे ?

भक्ति धाम यात्रा पर जाने वाले पर्यटकों के लिए रेल मार्ग वायु मार्ग और रोड मार्ग तीनों सुविधाएं उपलब्ध है आप अपनी सुविधा के अनुसार पहुंच सकते हैं

बया रेल मार्ग

यदि आप ट्रेन के माध्यम से भक्ति धाम मनगढ़ तक पहुंचने की सोच रहे हैं इसका निकटतम रेलवे स्टेशन प्रतापगढ़ तथा कुंडा है ।

लेकिन अगर आपके शहर से डायरेक्ट प्रतापगढ़ के लिए ट्रेन उपलब्ध नहीं है तो फिर लखनऊ या प्रयागराज रेलवे जंक्शन पहुंचकर प्रतापगढ़ के लिए ट्रेन पकड़ सकते हैं लखनऊ से इसकी दूरी 145 किलोमीटर और प्रयागराज से मात्र 60 किलोमीटर दूरी पर स्थित है।

वायु मार्ग

हवाई यात्रा करके भक्ति धाम पहुंचने वाले यात्रियों के लिए इसका नजदीकी एयरपोर्ट लखनऊ है जिसकी दूरी मात्र 145 किलोमीटर है ।

और पढ़ें:-

Leave a Comment