भोपाल में घूमने की जगह यहां आदिमानव बस्ती से लेकर झील तक सब कुछ खास है

भोपाल, मध्य प्रदेश की राजधानी है जो चारों तरफ खूबसूरत झील और पहाड़ियों से घिरा हुआ है इस शहर में लगातार 100 वर्षों से अधिक चार मुगल रानियों ने शासन किया जिन्होंने एक छोटे से कस्बे को महानगर में तब्दील कर दिया और उन्होंने कई खूबसूरत झीलो मस्जिद, रेलवे, शिक्षा ,कला, संस्कृति के साथ स्मारक बनवाए जो शहर के अतीत इतिहास के साक्ष हैं।

शहर के भीतर और आसपास के बाहरी इलाके में भोपाल में घूमने की जगह कई है जिन्हें देखकर पर्यटक मनो अतीत में खो जाते हैं यहां के भीमबेटका में 10000 वर्ष से अधिक पुरानी आदिमानव बस्ती से लेकर झील तक यहां सब कुछ है और तो और पीपल्स मॉल में दुनिया के सात अजूबों को एक साथ देखा जा सकता है।

भोपाल में घूमने की जगह

पहाड़ी क्षेत्र में बसा होने की वजह से भोपाल के इर्द-गिर्द कई झीलें बनी हुई है इसके अलावा यहां पर कई पिकनिक स्पॉट भी मौजूद है जिनको हम विस्तारपूर्वक आगे बता रहे हैं-

1. बड़ा तालाब झील भोपाल  –  Upper lake bhopal

Upper lake bhopal
Upper lake bhopal

भोपाल में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली जगहों में से एक बड़ा तालाब है इसे भारत की सबसे पुरानी मानव निर्मित झील होने का दर्जा प्राप्त है पर्यटकों के लिए झील में काय किंग, पैरासेलिंग, राफ्टिंग, कैनोइंग ,क्रूज बोट , पर्सनल मोटर बोट , पैडल बोट , स्पीड बोट आदि आगंतुकों पानी में होने वाले खेलों की पेशकश करता है। इसके आसपास कई खूबसूरत पार्क और जंगल सफारी मौजूद है जहां उत्साही पर्यटक इंजॉय कर सकते हैं।

इस झील के ऊपरी हिस्से में पर्यटकों को फोटोग्राफी करने के लिए शानदार ब्रिज का निर्माण किया गया है ताकि भोपाल का भ्रमण के लिए आए हुए सैलानी यहां की यादों को अपने कैमरे में कैद कर सके।

2. वन विहार राष्ट्रीय उद्यान भोपाल

भोपाल में बड़ा तालाब के बाद दूसरी सबसे ज्यादा देखी जाने वाली जगह बन बिहार है जो बड़ी झील के दूसरे छोर में स्थित है यदि आप प्रेमी है और जंगली जानवरों, जीव जंतु, पक्षियों और जानवरों में रुचि रखते हैं तब यह स्थान आपके लिए स्वर्ग से कम नहीं है, क्योंकि यहां कई प्रकार की जंगली जानवर जैसे सफेद शेर, हिमालयन भालू, तेंदुआ सांभर, बाघ ,कृष्ण मृग ,लंगूर खरगोश के अलावा किंगफिशर, बुलबुल, वैगटेल और कुछ प्रवासी प्रजातियों जैसे अनेकों पक्षियों को देख सकते हैं अपनी यात्रा को सुंदर बनाने के लिए यहां सफारी की सवारी अवश्य करें वन विहार राष्ट्रीय उद्यान की यात्रा सुखद बनाएं।

वन विहार राष्ट्रीय उद्यान सभी मौसम में सप्ताह से 6 दिन खुला रहता है तथा सप्ताह में एक दिन शुक्रवार को वन विहार बंद ।

यह भी पढ़ें-

3. पीपुल्स मॉल (थीम पार्क)

People mall bhopal
People mall bhopal

यह किसी प्रकार का शॉपिंग मॉल नहीं है बल्कि एक थीम पार्क है इसके भीतर एफिल टावर, चीन की दीवार, बुर्ज खलीफा, स्टेचू ऑफ़ लिबर्टी, ताजमहल, लाल किला,इंडिया गेट, लोटस टेंपल जैसे प्रसिद्ध स्मारकों को एक साथ देख सकते हैं।

इसके अलाबा आपको आर्टिफिशियल तरीके से सुव्यवस्थित बनाया गया कश्मीर की वादियां देखने को मिल जायेगा यहाँ ठण्ड तो नहीं होगी लेकिन एकदम बर्फीले पहाड़, पेड़ पौधे, उन्हीं के अनुरूप बनाया गया है ।

यहाँ आने के बाद आप दुनिया भर  की बेहतरीन  जगहों को एक साथ देखने का सपना पूरा कर सकते है । क्योकि इन सभी जगहों के एकदम Same to same  बनाया गया है लेकिन  size में थोड़ा से छोटे हैं ।

जब आप भोपाल के इस थीम पर को घूमने के लिए आए तो 1 दिन का पूरा समय निकालकर आए ताकि यहां के सभी प्लेसेस को अच्छी तरह से कवर कर पाए ।

क्योंकि यहां कई एडवेंचर एक्टिविटी भी होती है जैसे कि वोट की सवारी, घोड़े की सवारी के अलावा और भी कई एक चीज उपलब्ध है।

4. भीम बेटका गुफा

bheem batika bhopal
bheem batika bhopal

मध्य प्रदेश के रातापानी वाइल्डलाइफ में विंध्य श्रृंखलाओं की श्रेणी में फैला आदिमानव द्वारा निर्मित रिहाशी इलाका जिसे हम भीमबेटका के नाम से जानते हैं।

यहां कई गुफाएं बनी हुई है जिनके दीवारों पर आदिमानव द्वारा पेंटिंग किया गया है

हमारे पूर्वजो द्वारा बनाये गए इन कलात्मक दृश्य हमें आज उस समय के बारे में सीधे सीधे संदेश दे रहे है यहां के शैल चित्रों में नृत्य करते हुए आदिमानव का समूह , शिकार करते हुए, हाथी घोड़े और अन्य जानवर तथा पशुपालन की कला को चित्रों में बड़ी ही सुंदरता से उरेहा गया है ।

  • इन पथरीली गुफाओं में सभ्यता की शुरूआती जीवन की झांकी देख मन रोमांचित हो जाता है और समय का आभस होता है कितना लम्बा रास्ता तय कर लिया है हमारी मानव सभ्यता ने ।
  • शायद ये हमको आइना दिखते है की विकास के इस दौर में हम मानव ने क्या क्या खो दिया जिसमें आपसी मेलजोल, प्रकृति से रिश्ता , कला संगीत , त्योहार आदि चीजे हम सब पीछे छोड़ चुके है ।

वैज्ञानिक रिसर्च के अनुसार यह क्षेत्र आदिमानव का रिहायशी इलाका हुआ करता था जब वो पत्थरो के हथियार का इस्तेमाल करना  शुरू भी नहीं किये थे उस समय का स्थान बताया जाता है।

भोपाल स्थित भोजपुर के इस प्राचीन ऐतिहासिक पुरातात्विक संग्रहालय को अपने भोपाल घूमने की जगह में जरूर शामिल करें क्योंकि यहां जाकर आपको एक अलग तरह का एक्सीडेंट मिलेगा।

  • शोधकर्ताओं के अनुसार ऐसा माना जाता है कि पूर्व पाषाण से मध्य पाषाण तक भीमबेटका आदिमानव गतिविधियों का केंद्र रहा होगा।
  • साल1990 में इसे भारतीय पुरातत्व विभाग ने इसे राष्ट्रीय महत्त्व का स्थान दिया आगे चलकर 2003 मैं विश्व धरोहर स्थान का दर्जा प्राप्त हुआ।

5. सैर सपाटा भोपाल   Sair sapata bhopal

sair sapata bhopal
sair sapata bhopal

भोपाल का बड़ा तालाब के पास स्थित शानदार दर्शनीय स्थल सैर सपाटा मुख्य रूप से पैसों के लिए खेल पार्क है जहां जंगल की पैदल यात्रा के साथ कार डैशिंग, ज़ोरबिंग,चार खोखे और तीन नज़ारे, टॉय ट्रेन और नाव की सवारी पर्यटकों को बेहद आकर्षित करते हैं इनमें से किसी भी एडवेंचर एक्टिविटी को इंजॉय करने के लिए निर्धारित शुल्क जमा करना होगा।

6. जनजातीय संग्रहालय भोपाल  Tribal museum Bhopal in hindi

यह एक जनजाति संग्रहालय है जिसमें मध्यप्रदेश में निवास करने वाले जनजातियों भार्या , भीर , गोंड , बैगा , कोल, सहरिया, बसोर और विश्वकर्मा जैसी विभिन्न जनजातियों के रहन-सहन और उनके द्वारा जीवन आधार की वस्तुएं और उनके जीवन के हर पहलुओं को बड़ी खूबसूरत तरीके से यह म्यूजियम प्रदर्शित करता है।

इस संग्रहालय का उद्घाटन साल 20213 में हुआ है । आप यहाँ आएंगे तो देखपाएँगे की मध्यप्रदेश में जनजातियों का जीवन किस तरह से है इसको देखने के बाद आप अचंभित रह जायेंगे ।

7. मानव संग्रहालय

एक ऐसा म्यूजियम जो मानव जाती की बारे में बड़े सुंदर तरीके से बताता है यहां इंसानी जीवन के सभ्यता और संस्कृति का पूरा सफर देखने को मिलता है ।

  • लगभग 200 एकर में फैले इस खूबसूरत म्युसियम में प्राचीन भारतीय संस्कृत और मानव जाति के जीवन को प्रदर्शित कर रहा है.
  • इसके अंदर प्राचीन समय में इस्तेमाल किये जाने बाले बर्तन ,कलाकृतिया ,झोपड़ियों ,खाने की बस्तुए आदि चीजे देखने को मिलती है ।
  • यदि आप प्राचीन संस्कृति में रूचि रखते है तो एक बार आपको मानव संग्रहालय में आवाज विजिट  करना चाहिए ।

8. भोजपुर मंदिर भोपाल

यदि आप शहर के भीड़भाड़ से कुछ शांति भरा समय बिताना चाहते हैं तो भोपाल से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर भोजपुर जहां भगवान शिव और माता पार्वती का भव्य मंदिर मौजूद है।

पहाड़ी पर बने इस मंदिर में के खंभों पर कई हिंदू देवी देवताओं कोउकेरा गया तथा जिस तकनीकी से इस मंदिर का निर्माण किया गया है तो हैरान कर देने वाला है

इस मंदिर का निर्माण 11वीं शताब्दी में राजा भोज के द्वारा करवाया गया था इसके अंदर शिवलिंग का सिंहासन इतना ऊंचा है की पुजारी को सीढ़ी लगाकर पूजा पाठ करना पड़ता है ।

भोजपुर मंदिर का निर्माण अधूरा होना के कारण इसे ज्यादा पहचान नहीं मिल पायी यदि इसका निर्माण कार्य पूर्ण हो जाता तो आज ही हिंदुओं का सबसे बड़ा तीर्थ स्थल होता है ।

महाशिवरात्रि और मकर संक्रांति के दिन यहां तीन दिवसीय विशेष मेले का आयोजन किया जाता है जिसमें दूर-दूर से श्रद्धालु भाग लेते हैं।

9. शाहपुरा लेक भोपाल

इस सिटी के मध्य भाग में स्थित आर्टिफिशियल झील शहरवासियों के बीच काफी ज्यादा लोकप्रिय है यहां सुबह और शाम के समय वाकिंग करते हुए हजारों लोग झील के शांत वातावरण में अपना समय व्यतीत करने के लिए आता है।

10. मनुआभान टेकरी भोपाल

पहाड़ी चोटियों पर स्थित मनुआ भान टेकरी भोपाल के पर्यटन स्थल में से एक है यहां से शहर की नजाकत भरी सुंदरता देखने को मिलती है और पहाड़ों की खूबसूरती देखने को मिलते।

यहां तक पहुंचने के लिए दोऑप्शन है पहला सड़क मार्ग और दूसरा रोपवे के माध्यम से

लेकिन मैं आपको सजेस्ट करूंगा कि आप रूबी के द्वारा इस हिलपॉइंट तक पहुंचे हैं जिससे आपको पहाड़ों की सुंदरता और शहर की खूबसूरती का परिदृश्य काफी अच्छी तरह से दिखाई देगा।

इस पहाड़ी के टॉप पर एक जैन मंदिर भी है जिनके चाहे तो दर्शन के लिए जा सकते हैं और बाकी का यहां से जो पॉइंट देखने को मिलता है अमेजिंग होता है।

11. अमरगढ़ वॉटरफॉल

राजधानी भोपाल से 65 और सीहोर जिले से मात्र 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित अमरगढ़ जलप्रपात भोपाली पर्यटकों का पसंदीदा स्थान है।

सप्ताहिक छुट्टियों को इंजॉय करने के लिए अक्सर वो इस जलप्रपात की यात्रा के लिए निकल पड़ते हैं।

घने जंगलों के मध्य स्थित इस जलप्रपात का पानी जब ऊपर से गिरता है तो छोटी-छोटी बूंदों के रूप में धुंध बनकर आसपास के वातावरण में फैल जाता है।

जिससे आसपास के एरिया को गर्मियों के मौसम में ठंडी ठंडी ताजगी भरी हवाओं का एहसास होता है जो कि पर्यटकों को काफी मनमोहक लगता हैं।

प्रकृति के इस खूबसूरत नजारे को देखने के लिए दूर-दूर से सैलानी झरने का दीदार करने के लिए आते हैं।

12. ताज उल मस्जिद भोपाल

दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी मस्जिदों में शुमार है ताजुल मस्जिद भारत में जामा मस्जिद के बाद इसी का स्थान है ।

इसका निर्माण 1877 में नबाब बेगम ने शुरू कराया था करवाया था और उसके बाद इसका निर्माण कार्य पूरा होने में 100 बर्षो का भी समय लग गया 1985 में इसका कार्य पूरा हुआ । तभी आज ताज उल मस्जिद भोपाल शहर की सबसे खूबसूरत इमारतों में शामिल है इस मस्जिद में लगभग 1 लाख 75 हजार लोग एक साथ नमाज पढ़ सकते है ।

13. भारत भवन

बड़ी झील के पास स्यामला हिल्स में स्थित भारत भवन जाना जाता है कला और संस्कृति के लिए शिव भारत के विभिन्न शास्त्री कलाओं के संरक्षण का प्रमुख केंद्र है।

इसके अलावा यहां पर नाच गाने और मनोरंजन के कार्यक्रम भी कराए जाते हैं यदि आप इतिहास ,साहित्य, और कला में रुचि रखते हैं यहां एक बार अवश्य विजिट कीजिएगा

भारत भवन को 5 भागो में बांटा गया है –

  1. रूपंकर – यहाँ  पर ललित कलाओं को संरक्षण किया जाता है ।
  2. रंगमंडल – यहाँ पर रंगमंच कार्यकर्मो को किया जाता जाता है ।
  3. बगर्थ- इस भाग को कविता कलाओं के लिए बनाया गया है ।
  4. अनहद – इस भाग में शास्त्री लोग संगीत कलाओं की प्रस्तुति के लिए बनाया गया है ।
  5. छवि – इस भाग में सिनेमा से सम्बंधित सभी गतिविधिया की जाती है ।

14. Lower Lake bhopal

Boat riding bhopal in upper lake
Boat riding bhopal in upper lake

इस शहर में कई प्रसिद्ध जलाशय देखने को मिल जायेंगे जहांपर्यटकों के लिए Boat riding के साथ अपना कुछ समय बिताने के लिए मौका मिल जाता है.

15. बिरला मंदिर

अरेरा पहाड़ियों के पास स्थित इस शहर के लोकप्रिय धार्मिक स्थल बिरला मंदिर का नाम सबसे पहले लिया जाता है इस मंदिर के गर्भ गृह में माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की मूर्ति स्थापित की गई है।

मंदिर परिसर के अंदर संगमरमर के पत्थरों में गीता और रामायण के उपदेश अंकित है

यहां हर वर्ष कृष्ण जन्माष्टमी के पावन शुभ अवसर पर भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव भव्य रूप से मनाया जाता है और उसी समय ही यहां किस सबसे ज्यादा भीड़ देखी जाती है।

भोपाल कैसे घूमे ?

दोस्तों भोपाल घूमने के तीन प्रमुख साधन है –

  1. पहला यह कि आप सिटी बस के माध्यम से इन सभी स्थानों को अलग-अलग टाइम पर कवर कर सकते हैं
  2. दूसरों के सामने टैक्सी बुक करके आराम से भोपाल शहर को एक्सपोर्ट कर सकते हैं
  3. तीसरा और सबसे अच्छा विकल्प है कि आप किराए पर बाइक लेकर इस शहर को बड़े आसानी के साथ घूम सकते हैं जोकि रेंट पर बाइक आपको बड़ा तालाब और बस स्टैंड तथा रेलवे स्टेशन के पास कई एजेंट मिल जाएंगे जो किराए पर बाइक देते हैं जिसके वह कुछ चार्ज करता है ।

नार्मल बाइक का रेट पूरे दिन भर के लिए 350 से  500 होता है अगर आप बुलेट या फिर कोई और अच्छी बाइक वेहिवले लेना चाहे तो 1000 रूपए के अंदर ही मिल जायेगे ।

भोपाल कैसे पहुंचे ?

भोपाल पहुंचना बहुत ही आसान है क्योंकि भारत के मध्य में स्थित है जहां से हर प्रांतों के लिए प्रतिदिन गाड़ियों का आवागमन होता रहता है-

बया ट्रैन

भारत का पहला मॉड्यूलर रेलवे स्टेशन हबीबगंज भोपाल में ही स्थित है और यहां भारत के छोटे बड़े सभी शहरों से प्रतिदिन ट्रेनों का आवागमन होता है और यह दिल्ली मार्ग पर स्थित है। इसे स्टेशन से कई राजधानी और शताब्दी ट्रेन अभी गुजरती है इसलिए भोपाल पहुंचना आसान है बहुत।

वायु मार्ग

यदि आप हवाई सफर करके भोपाल पहुंचने की सोचते हैं तो इसका नजदीकी एयरपोर्ट राजा भोज इंटरनेशनल एयरपोर्ट है जहां भारत के सभी बड़े शहरों से प्रतिदिन उड़ाने होती हैं।

FAQ- Related Bhopal

भोपाल में फेमस क्या है?

1.बड़ा झील भोपाल
2.भीम बेटका गुफा
3.भारत भवन
4.भोजपुर मंदिर भोपाल
5.मानव संग्रहालय
6.जनजातीय संग्रहालय भोपाल
7.वन विहार राष्ट्रीय उद्यान भोपाल
वैसे भी भोपाल की खूबसूरती देखते बनती है पहाड़ियों पर बसा यह शहर भारत के किसी भी राज्य की राजधानी में सबसे आगे मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्वच्छता मिशन के तहत टॉप में आता है ।

अंतिम लाइन

आशा करता हूं आपको भोपाल में घूमने की जगह की संपूर्ण जानकारी आपको मिल गई होगी तथा भोपाल के पर्यटन स्थल की यह जानकारी आपको कैसी लगी हमें नीचे कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं

ऐसे ही जानकारी पाने के लिए हमें इंस्टाग्राम या फेसबुक में फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment